banner
Apr 30, 2021
4 Views
0 0

Bewafa Shayari – Bewafaon Ki Mahfil

Written by
banner

Bewafaon Ki Mahfil Lagegi Ai Dil-E-Jaana,
Aaj Zara Waqt Par Aana Mehmaan-E-Khaas Ho Tum.

बेवफ़ाओं की महफ़िल लगेगी ऐ दिल-ए-जाना,
आज ज़रा वक़्त पर आना मेहमान-ए-ख़ास हो तुम।

Bewafai Ka Mujhe… Jab Bhi Khayaal Aata Hai,
Ashq Rukhsaar Par Aankhon Se Nikal Jate Hain.

बेवफ़ाई का मुझे… जब भी ख़याल आता है,
अश्क़ रुख़सार पर आँखों से निकल जाते हैं।

Sikha Di Bewafai Karna Zaalim Zamaane Ne Tumhe,
Tum Jo Bhi Seekh Jaate Ho Ham Par Hi Aajmaate Ho

सिखा दी बेवफ़ाई करना ज़ालिम ज़माने ने तुम्हे,
तुम जो भी सीख जाते हो हम पर ही आजमाते हो।

Teri Bewafai Ne Mera Ye Haal Kar Diya Hai,
Main Nahin Roti Log Mujhe Dekh Kar Rote Hain.

तेरी बेवफाई ने मेरा ये हाल कर दिया है,
मैं नहीं रोती लोग मुझे देख कर रोते हैं।

Jab Tak Na Lage Bewafai Ki Thokar,
Har Kisi Ko Apni Pasand Par Naaz Hota Hai.

जब तक न लगे बेवफाई की ठोकर,
हर किसी को अपनी पसंद पर नाज़ होता है।

Ye Shayari Ki Mahfil Bani Hai Aashiqon Ke Liye,
Bewafaon Ki Kya Aukaat Jo Shabdon Ko Tol Sake.

ये शायरी की महफ़िल बनी है आशिकों के लिये,
बेवफाओं की क्या औकात जो शब्दों को तोल सके।

Article Categories:
Bewafa Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.