banner
Apr 30, 2021
2 Views
0 0

Barish Shayari – Noor Ki Barishen

Written by
banner

Baras Jaye Yahan Bhi Kuch Noor Ki Barishen ,
Ke Emaan Ke Shishon Pe Badi Gard Jami Hai,
Us Tasveer Ko Bhi Kar De Taza,
Jinki Yaad Humare Dil Me Dhudhli Si Padi Hai.

बरस जाये यहाँ भी कुछ नूर की बारिशें,
के ईमान के शीशों पे बड़ी गर्द जमी है,
उस तस्वीर को भी कर दे ताज़ा,
जिनकी याद हमारे दिल में धुंधली सी पड़ी है।

Mat Puchho Kitni Mohabbat Hai,
Mujhe Unse,
Barish Ki Boond Bhi Agar Unhe Chhoo Jaati Hai,
To Dil Me Aag Lag Jati Hai.

मत पूछो कितनी मोहब्बत है
मुझे उनसे,
बारिश की बूँद भी अगर उन्हें छू जाती है,
तो दिल में आग लग जाती है।

Inn Baadalon Ka Mizaaj Bhi…
Mere Mehboob Jaisa Hai,
Kabhi Toot Ke Barasta Hai,
Kabhi Berukhi Se Gujar Jata Hai.

इन बादलों का मिज़ाज भी…
मेरे महबूब जैसा है,
कभी टूट के बरसता है,
कभी बेरुखी से गुजर जाता है।

Aaj Halki Halki Barish Hai,
Aaj Sard Hawa Ka Raqs Bhi Hai,
Aaj Phool Bhi Nikhre Nikhre Hain,
Aaj Unn Me Tumhara Aks Bhi Hai.

आज हल्की हल्की बारिश है,
आज सरद हवा का रक्स भी है,
आज फूल भी निखरे निखरे हैं,
आज उनमे तुम्हारा अक्स भी है।

Article Categories:
Barish Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.