banner
Apr 29, 2021
4 Views
0 0

Attitude Shayari – Faqeer Mizaaz Hoon

Written by
banner

Faqeer Mizaaz Hoon, Mai Apna Andaaz
Auron Se Juda Rakhati Hoon,
Log Masjido Me Jaate Hai,
Main Apne Dil Me Khuda Rakhti Hoon .

फ़क़ीर मिज़ाज़ हूँ, मै अपना अंदाज़
औरों से जुदा रखती हूँ,
लोग मस्जिदो मे जाते है,
मै अपने दिल मे ख़ुदा रखती हूँ।

Bekhudi Ki Zindagi Ham Jiya Nahin Karte,
Jaam Doosron Se Chheenkar Ham Piya Nahin Karte,
Unko Mahobat Hai To Aakar Izahar Karen,
Peechha Ham Bhi Kisika Kiya Nahin Karate.

बेखुदी की जिंदगी हम जिया नहीं करते,
जाम दूसरों से छीनकर हम पिया नहीं करते,
उनको महोबत है तो आकर इज़हार करें,
पीछा हम भी किसीका किया नहीं करते।

Zindagi Ki Har Ek Udaan Baaki Hai,
Har Mod Par Ek Imthaan Baaki Hai,
Abhi To Sirf Aap Hi Pareshaan Hai Mujhse,
Abhi To Poora Hindustaan Baaki Hai.

ज़िंदगी की हर एक उड़ान बाकी है,
हर मोड़ पर एक इम्तिहान बाकी है,
अभी तो सिर्फ़ आप ही परेशान है मुझसे,
अभी तो पूरा हिन्दुस्तान बाकी है।

Rahate Hain Aas-Paas Hi,
Lekin Saath Nahi Hote,
Kuchh Log Jalte Hain Mujhse,
Bas Khaak Nahi Hote.

रहते हैं आस-पास ही,
लेकिन साथ नही होते,
कुछ लोग जलते हैं मुझसे,
बस खाक नही होते।

Article Categories:
Attitude Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.