banner
Apr 29, 2021
5 Views
0 0

Ashq Shayari – Ashq Se Aankhon Mein

Written by
banner

Aaj Ashq Se Aankhon Mein Kyun Aaye Hue,
Gujar Gaya Hai Zaman Tujhe Bhulaye Hue.
आज अश्क से आँखों में क्यों हैं आये हुए,
गुजर गया है ज़माना तुझे भुलाये हुए।

Tu Ishq Ki Doosari Nishani De De Mujhko,
Aansoo Toh Roj Gir Ke Sookh Jate Hain.
तू इश्क की दूसरी निशानी दे दे मुझको,
आँसू तो रोज गिर कर सूख जाते हैं।

Ajeeb Qahar Pada Ab Ke Saal Ashqon Ka,
Ke Aankh Tar Na Hui Khoon Se Nahakar Bhi.
अजीब कहर पड़ा अब के साल अश्कों का,
कि आँख तर ना हुई खूं में नहा कर भी।

Dega Agar Dard Toh Khud Bhi Doobega,
Woh Ek Shakhs Jo Ankhon Mein Rahta Hai.
देगा अगर दर्द तो खुद भी डूबेगा,
वो एक शख्स जो आँखों में रहता है।

Jo Aansoo Aankh Se Achanak Nikal Padein,
Wajah Unki Jubaan Se Bayaan Nahin Hoti.
जो आँसू आँख से अचानक निकल पड़ें,
वजह उनकी ज़बान से बयां नहीं होती।

Uss Ashq Ki Taseer Se Allah Bachaaye,
Jo Ashq Aankhon Mein Rahe Aur Na Barse.
उस अश्क की तासीर से अल्लाह बचाये,
जो अश्क आँखों में रहे और न बरसे।

Jaahir Nahi Karta Par Main Roj Rota Hoon,
Shahar Ka Dariya Mere Ghar Se Nikalta.
जाहिर नहीं करता पर मैं रोज रोता हूँ,
शहर का दरिया मेरे घर से निकलता है।

Article Categories:
Ashq Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.