banner
Apr 29, 2021
5 Views
0 0

Ashq Shayari – Aansoo Ka Samandar

Written by
banner

Mere Dil Mein Na Aao Varna Doob Jaaoge Tum,
Gham Ke Aansoo Ka Samandar Hai Mere Andar.
मेरे दिल में न आओ वर्ना डूब जाओगे,
गम के आँसू का समंदर है मेरे अन्दर।

Jabt-e-Gham Koyi Aasaan Kaam Nahi Faraaz,
Aag Hote Hain Woh Aansu Jo Piye Jaate Hain.
जब्त-ए-गम कोई आसान काम नहीं फराज,
आग होते है वो आँसू जो पिए जाते हैं।

Kya Likhu Dil Ki Haqeeqat Aarzoo Behosh Hai,
Khat Pe Aansoo Beh Rahe Hain Aur Kalam Khamosh Hai.
क्या लिखूं दिल की हकीकत आरजू बेहोश है,
ख़त पे आँसू बह रहे हैं और कलम खामोश है।

Hasne Ki Justju Mein Dabaaya Jo Dard Ko,
Aansoo Humari Aankh Mein Patthar Ke Ho Gaye.
हंसने की जुस्तजू में दबाया जो दर्द को,
आँसू हमारी आँख में पत्थर के हो गए।

Ek Tamanna Jagi Hai Iss Mayoos Dil Mein Aaj,
Aansoo Ke Saath Har Ek Khwahish Bhi Bah Jaaye.
एक तमन्ना जगी है इस मायूस दिल में आज,
आँसू के साथ हर एक ख्वाब भी बह जाए।

Kyun Badla Hua Sa Hai Aaj Mere Aansuon Ka Rang,
Kya Dil Ke Zakhm Ka Koi Taanka Udhad Gaya.
क्यूँ बदला हुआ है आज मेरे आँसुओ का रंग,
क्या दिल के ज़ख्म का कोई टाँका उधड़ गया।

Article Categories:
Ashq Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.